पीएनआर नंबर

पीएनआर नंबर आज के जमाने में हर कोई train से travel करता है और जब आप travel करते है, या फिर कभी ट्रेवल किया होगा या आप travel करने वाले हो तो आपने पीएनआर नंबर के बारे में तो सुना ही होगा ।

कई बार देखा गया है की हम train से यात्रा तो बहुत बार करते है और हम हर बार पीएनआर नंबर word को सुनते है और हमे PNR के बारे में पता भी होता है, लेकिन हमे पीएनआर का मतलब नहीं पता होता है।

पीएनआर नंबर एक ऐसा record है जिसमे कर रहे यात्री की कम्प्यूटर रिज़र्वेशन सिस्टम द्वारा सारी जानकारी फीड की जाती है जिसकी मदद से हमे यात्रा करने में कोई परेशानी नहीं होती और हमारी identity सरकार के पास रहती है जीस वजह हम अपने आप को सुरक्षित महशूस करते है।

पीएनआर नंबर

पीएनआर का फुल फॉर्म Passenger Name Record होता है, और इसे हिंदी में यात्रियों के नाम का दस्तावेज कहा जाता है, यह एक 10 number का Disit code होता है और ऐसी 10 number में हमारी यात्रा की जानकारी फीड होती है।

पीएनआर नंबर का इस्तेमाल विशेष रूप से किसी भी ticket को track करने के लिए use किया जाता है और यात्रा कर रहे यात्री के detail को देखने के लिए use किया जाता है जैसे- उसको नाम, उम्र, gender, train number, train में Seat, date of birth, यात्रा की date, या फिर transaction detail क्या है आदि चीजें।

10 डिजिट को कुछ इस प्रकार से देखा जाता है जैसे पहला disit PRS(passenger Reservation system) को दिखता है, और दूसरे और तीसरे Disit railway zone को sow करते है हर railway जॉन का एक अलग Disit होता है, और लास्ट के बचे सातों Disit एक तरह का unique code होता है जो की हर passenger का code अलग अलग होता है।

पीएनआर नंबर का use हम ज्यादा तर ticket के detail को track करने के लिए करते है, train कौन सी है, और किस platform पर आएगी, हमारी seat confirm हुई या नहीं, अगर confirm है तो हमारी seat कौन सी है, ये सब जानने के लिए हम पीएनआर नंबर का इस्तेमाल करते है।

तो मै उम्मीद करूँगा की आपको हमारा article पीएनआर नंबर समझ में आ गया होगा और आपको पसंद भी आया होगा।

Leave a Comment