Airforce kya hai in hindi, Airforce meaning in Hindi indianairforce.nic.in

इंडियन एयर फोर्स भारत की एक सशस्त्र सेना का हिस्सा है और इसका जो वायु युद्ध, वायु सुरक्षा, एवं वायु चौकसी का महत्वपूर्ण काम देश के लिए करती है, यानि की जिस प्रकार से एक इंडियन आर्मी होता है वह हमारे देश के बॉर्डर पर रह कर हमारे देख की सुरक्षा करती है ठीक उसी प्रकार से इंडियन एयर फाॅर्स का काम हवा में रह कर अपने आशमानी मार्ग या आशमानी सीमा का सुरक्षा की जिम्मेदारी लेती है।

What is airforce in Hindi, Airforce kya hai indianairforce.nic.in

इंडियन एयर फाॅर्स की स्थापना 8 अक्टूबर सन 1932 में हुई थी यानि की आज के लगभग 89 वर्ष पहले, और इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है, इंडियन एयर फ़ोर्स को भारतीय वायु सेना कहा जाता है, और इसे सॉर्ट में IAF  भी कहा जाता है, और इसी का full form INDIAN AIR FORCE होता है। इंडियन एयर फ़ोर्स आकाशिए सुरक्षा के साथ साथ हमारे क्षेत्र में नजर बनाये रखने का काम करती है और यह होने वाले दूसरे मुल्क हमारे बिरुद्ध साजिसों का भी पता लगाती है इसका मुख्य कार्य हवा से हवा में मार करना होता है, और किसी भी दैविये आपदा से भी लोगो को बचाना होता है। इंडियन एयर फोर्स में लगभग 239476 से अधिक सक्रिय सैनिक है और साथ साथ हमारे पास लगभग 11850+ से अधिक विमान है, और इसकी वर्षगाँठ 8 अक्टूबर को वायु सेना दिवस के नाम से पुरे भारत में मनाया जाता है। भारतीय वायु सेना (इंडियन एयर फ़ोर्स) में सर्वोच्च रैंक , भारतीय वायु सेना के मार्शल है , जो युद्ध के दौरान विशेष सेवा के बाद भारत के राष्ट्रपति द्वारा प्रदान किया जाता है, और इस रैंक को प्राप्त करने वाले अर्जुन सिंह एक मात्र अधिकारी है। मै आपको जानकारी के लिए बता दूँ की एयर फ़ोर्स में कुल 17 रैंक होती है कर सभी रैंक की पाचन और काम अलग अलग होता है जैसा की आप नीचे तालिका में देख सकते है।

  • ACP Kya hai, ACP Full form in hindi
  • SP kya hai, SP full form in Hindi
  • SSC Kya hai, SSC full form in hindi
  • ASI Kya hai, ASI meaning in Hindi
मार्शल ऑफ द एयर फोर्समार्शल ऑफ द एयरफोर्स इंडियन एयरफोर्स की सबसे बड़ी रैंक है, यह युद्ध के दौरान मिलने वाली एक पदवी है, यह फाइव-स्टार रैंक है. इंडियन एयर फ़ोर्स में एकमात्र मार्शल ऑफ द एयरफोर्स  अर्जन सिंह रहे है।
एयर चीफ मार्शलयह चार स्टार वाली रैंक होती है, इनकी वर्दी पर काले और नीले रंग की तीन पतली पट्टी होती है और एक मोती पट्टी होती है, वर्तमान में बीरेंद्र सिंह धनोआ एयर चीफ मार्शल है।
एयर मार्शलएयर मार्शल एयर चीफ मार्शल से जूनियर पद होता है, इसे तीन स्टार वाली रैंक भी कहा जाता है, इनकी वर्दी सोल्डर पर काले और नीले रंग की दो पतली पट्टी होती है और एक मोती पट्टी होती है
एयर वाइस मार्शलएयर वाइस मार्शल इंडियन एयर फ़ोर्स में दो स्टार वाला पद होता है, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले और नीले रंग की एक पतली पट्टी होती है और एक मोती पट्टी होती है।
एयर कमोडोरएयर कमोडोर एयर वाइस मार्शल से जूनियर पर होता है, और इनकी वर्दी में सोल्डर पर एक काले और नीले रंग की मोती पट्टी होती है।
ग्रुप कैप्टनग्रुप कैप्टन एक सीनियर कमीशन वाला पद होता है, यह रैंक आर्मी के कर्नल के बराबर होती है, इनकी वर्दी पर सोल्डर पर काले और नीले रंग की पतली चार पट्टियां होती है।
विंग कमांडरविंग कमांडर ग्रुप कैप्टन से जूनियर पद होता है, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले और नीले रंग की तीन पतली पट्टी होती है।
स्क्वाड्रन लीडरविंग कमांडर के बाद स्क्वॉड्रन लीडर होते हैं, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले और नीले रंग की पतली दो पट्टी होती और दोनों के बीच एक और काले रंग की पट्टी होती है।
फ्लाइट लेफ्टिनेंटयह भी कमीशन्ड एयर ऑफिसर की रैंक होती है, जो स्क्वॉड्रन लीडर के बाद आते हैं, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले और नीले रंग की दो पट्टी होती है।
फ्लाइंग ऑफिसरफ्लाइंग ऑफिसर भी एक कमीशन्ड रैंक का पद होता है , इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले और नीले रंग की एक पट्टी होती है।
मास्टर वारंट ऑफिसरजूनियर कमीशन्ड ऑफिसर में यह हाइएस्ट रैंक होती है, और इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले रंग के बिल्ले होता है और उसके बगल काले और नीले रंग की दो पट्टियों होती है और उसमे एक अशोक की लाट और बाज का निसान होता है।
वारंट ऑफिसरयह जूनियर कमीशन्ड ऑफिसर में दूसरी सबसे बड़ी रैंक है, और इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले रंग का एक बिल होता है और  उसके दोनों बगल नीले और काले रंग की एक पट्टी होती है, और बिल्ले में एक अशोक की लाट और एक बाज का निशान होता है।
जूनियर वारंट ऑफिसरयह अधिकतर टेक्निकल लीडर होते हैं, और इनकी वर्दी में कंधो पर एक काले रंग का बिल्ला होता है और उसमे एक अशोक की लाट और एक बाज का निशान होता है
सार्जेंटजूनियर वारंट ऑफिसर के बाद सार्जेंट की रैंक आती है, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले रंग से घिरी सफ़ेद रंग की V आकार की 3 धारियों होती है, और उसके ऊपर एक बाज का निशान होता है
कॉर्परलयह मिलिट्री रैंक है, जो सैनिकों के समूह को देखते हैं, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले रंग से घिरी सफ़ेद रंग की V आकार की 2 धारियों होती है, और उसके ऊपर एक बाज का निशान होता है
प्रमुख एयरक्राफ्टमैनयह पारिभाषिक रूप से कोई पद नहीं है, लेकिन यह एयर फोर्स में बिना कमीशन प्राप्त अधिकारियों को दिया गया एक टाइटल है।
एयरक्राफ्टमैनयह इंडियन एयरफोर्स की सबसे छोटी रैंक है, इनकी वर्दी में सोल्डर पर एक बाज का निशान होता है।

तो ये थी कुछ जानकारी इंडियन एयर फोर्स के बारे में, तो हमे उम्मीद है की आप सभी को हमारा article अच्छे से समझ में आ गया होता और आप सभी को पसंद भी आया होगा।

वायु सेना समूह X और Y वेतन और लाभ

प्रशिक्षण के दौरान 14,600 प्रति माह का भुगतान किया जाएगा। 7वें वेतन आयोग के अनुसार, जो जनवरी 2016 से लागू है, ग्रेड पे को समाप्त कर दिया गया है और भारतीय वायु सेना के कर्मियों को केवल मूल वेतन दिया जाता है। मूल वेतन का निर्धारण छठे वेतन आयोग के समेकित वेतन (मूल वेतन + ग्रेड वेतन) को 2.5 से गुणा करके किया जाता है।

Airforce me salary kitni hoti hai

यहां भारतीय वायु सेना के वायुसैनिकों का रैंक-वार वेतन दिया गया है:

पदवेतन स्तर MSP Total Salary of Group X Total Salary of Group Y
Aircraftsman21700 – 57500 5200 33100 30500
Leading Aircraftman21700 – 57500 5200 33100 30500
Corporal21700 – 57500 5200 36900 34300
Sergeant21700 – 57500 5200 40600 38000
Junior Warrant Officer35400 – 94100 5200 46800 44200
Warrant Officer35400 – 94100 5200 56300 53700
Master Warrant Officer35400 – 94100 5200 59000 56400
 

भारतीय वायु सेना के एयरमैन की क्या भूमिका है ?

भारतीय एयरफोर्स एयरमैन के रूप में करियर चुनने वाले व्यक्ति यह सुनिश्चित करते हैं कि सभी हवाई और जमीनी संचालन सुचारू रूप से चले। वायु रक्षा प्रणालियों के संचालन से लेकर मिसाइलों की फिटिंग तक, आप एयरबेस में होने वाली सभी गतिविधियों में सक्रिय रूप से शामिल हैं और इसे एक सफल मिशन बनाने के लिए अपना समर्थन देते हैं। तकनीकी ट्रेडों के तहत वायु सेना एयर मैन सेवा में शामिल होने के बाद, आप विमान और अन्य उपकरणों के रखरखाव और परीक्षण के लिए जिम्मेदार होंगे। इंडियन एयरफोर्स एयरमैन के रूप में करियर करियर में विकास के कई अवसर प्रदान करता है जिसमें मुफ्त शैक्षणिक योग्यता और प्रशिक्षण शामिल है। दो समूह हैं, समूह X और समूह Y, दोनों समूहों के दो पहलू तकनीकी और गैर-तकनीकी हैं। वायु सेना में शामिल होने के बाद, तकनीकी समूह के एयर मैन एयरक्राफ्ट, हथियार, रडार और विशेषज्ञ वाहनों की सर्विसिंग में शामिल रहते हैं। जबकि गैर-तकनीकी एयर मैन वित्तीय, लेखा, प्रशासन, मानव संसाधन प्रबंधन, सुरक्षा, रसद सहायता, वाहन परिवहन और कई अन्य प्रकार के कार्यों में शामिल रहता है।

रखरखाव का काम

हवाई जहाजों का उचित रखरखाव सुनिश्चित करना और इलेक्ट्रॉनिक और संचार उपकरणों को संभालना।

सैन्य सहायता

उड़ान और तकनीकी शाखाओं को रसद, मौसम विज्ञान, शैक्षिक और प्रशासनिक सहायता प्रदान करना।

सलाहकार

पायलट को पूरी सुरक्षा में उड़ानें संचालित करने में सक्षम बनाने के लिए नियंत्रण और सलाहकार सेवाएं प्रदान करें।

निगरानी

किसी भी संभावित खतरे के लिए आसमान की निगरानी करें और उपयुक्त वायु रक्षा प्रणाली का चयन करें

एक भारतीय वायु सेना के एयरमैन के प्रकार

कोई भी व्यक्ति अपनी शैक्षणिक योग्यता के आधार पर फ्लाइंग, टेक्निकल या ग्राउंड ड्यूटी शाखाओं में एक अधिकारी के रूप में भारतीय वायु सेना में शामिल हो सकता है। हमने वायु सेना के एयरमैन में शामिल होने के उप-विषयों का उल्लेख नीचे किया है।

फ्लाइंग ब्रांच

फाइटर पायलट, ट्रांसपोर्ट पायलट, हेलीकॉप्टर पायलट – आप शांति और युद्ध दोनों के दौरान इनमें से किसी भी पायलट के रूप में काम कर रहे होंगे। आप स्नातक के रूप में उड़ान शाखा में प्रवेश कर सकते हैं [सीडीएस परीक्षा (पुरुषों के माध्यम से), एएफसीएटीएक्सम (पुरुष और महिला) के माध्यम से, एनसीसी विशेष प्रविष्टि (पुरुष) के माध्यम से]। आप एनडीए/एनए परीक्षा उत्तीर्ण करके 10+2 के बाद भी प्रवेश कर सकते हैं।

तकनीकी शाखा

मैकेनिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स – आप दुनिया के कुछ सबसे परिष्कृत उपकरणों की देखभाल कर रहे होंगे – आप इस शाखा में परीक्षा, एएफसीएटी या विश्वविद्यालय प्रवेश योजना (यूईएस) के माध्यम से प्रवेश कर सकते हैं।

ग्राउंड ड्यूटी शाखा

प्रशासन, लेखा, रसद, शिक्षा, मौसम विज्ञान – इन उल्लिखित विभागों के हिस्से के रूप में, आप मानव और सामग्री संसाधन / प्रबंधन निधि की देखभाल और रखरखाव करेंगे, आंतरिक लेखा परीक्षक के रूप में काम करेंगे / हवाई यातायात नियंत्रक या लड़ाकू नियंत्रक के रूप में काम करेंगे। आप AFCAT क्वालिफाई करके इस ब्रांच में जा सकते हैं।

चिकित्सा और दंत चिकित्सा शाखा

सेना चिकित्सा कोर के अधिकारियों को वायु सेना के लिए दूसरे स्थान पर रखा जाता है। वायु सेना कुछ अस्पताल और क्लीनिक चलाती है जहां सेना और नौसेना के जवान भी इलाज के हकदार हैं और इसके विपरीत।

शिक्षा शाखा

शिक्षा शाखा के अधिकारी प्रशिक्षण कार्यक्रम तैयार करते हैं जिसमें नवीनतम तकनीकी विकास शामिल होते हैं। प्रशिक्षण संस्थानों में, वे विज्ञान, कंप्यूटर प्रौद्योगिकी, सैन्य विज्ञान जैसे विभिन्न विषयों को पढ़ाते हैं। कर्मियों को उनकी शैक्षणिक योग्यता को आगे बढ़ाने में मार्गदर्शन करने के लिए जिम्मेदार। वायु सेना कर्मियों के बच्चों के लिए वायु सेना स्कूलों का आयोजन और संचालन करना।

भारतीय वायुसेना के एयरमैन का कार्यस्थल/कार्य वातावरण कैसा है?

गैर-तकनीकी ट्रेडों में एक एयरमैन के रूप में, काम में मौसम की भविष्यवाणी से लेकर भारतीय वायु सेना और उसकी सभी शाखाओं के रिकॉर्ड और फाइलों के रखरखाव तक विभिन्न कार्यों में सहायता और समर्थन शामिल है। एयर मैन की भूमिका के लिए एयर फ़ोर्स भर्ती सेंट्रल एयरमेन सिलेक्शन बोर्ड द्वारा की जाती है। यदि आप भारतीय एयरफोर्स एयरमैन के रूप में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो आप अधिकारियों की एयरफोर्स भर्ती के लिए आयोजित यूपीएससी परीक्षा में शामिल हो सकते हैं। भारतीय वायु सेना के एयरमैन में शामिल होने के बाद, व्यक्ति को विभिन्न कौशल और नौकरियों से अवगत कराया जाता है, इसलिए वायु सेना में शामिल होने का विकल्प चुनने वाले उम्मीदवारों को बहुमुखी, सक्षम और सक्षम होना चाहिए। आप पर वरिष्ठ अधिकारियों के दबाव में आने की अधिक संभावना है जो आपको कभी-कभी कठिन परिस्थितियों में प्रदर्शन करने की आज्ञा दे सकते हैं। 15 से 20 प्रतिशत वायुसैनिकों को जेसीओ स्तर पर पदोन्नत किया जाता है, इसलिए उन्हें 40 वर्ष की आयु में जल्दी सेवानिवृत्ति के अधीन किया जाता है। आम तौर पर एक एयरमैन 15 से 20 साल तक प्रदर्शन करता है, फिर वह सेवानिवृत्त हो जाता है। भारतीय वायु सेना उसे अन्य प्रकार के रोजगार प्राप्त करने के लिए सहायता प्रदान करती है। भारतीय एयरफोर्स एयरमैन के रूप में करियर में सेवानिवृत्ति के बाद कई सुविधाएं प्रदान की जाती हैं।

Airforce ke liye kitni umr honi chahiye

अगर आप भी air force को ज्वाइन करना चाहते है तो आपको इसके बार में जानकारी  होना बहुत ही आवश्यक है, क्योंकि जैसा की आपको पता होगा की air force जाने के लिए आपके पास दो तरीके होते है, जिसके माध्यम से आप indian air force को join कर सकते है। और दोनों तरीको के लिए  उम्र में भी थोड़ा बहुत अंतर होता है, ज्वाइन करने के लिए, पहले तरीके की बात करूँ तो मै आपको बताना  चाहूंगा की पहला तरीका होता है की आप NDA को ज्वाइन करके आप air force को join करे और दूसरा तरीका होता है की आप air force की direct भर्ती के माध्यम से आप air force को join कर सकते है। और इन दोनों की चयन प्रक्रिया में काफी अंतर होता है तो चलिए हम अलग जान लेते है की अलग अलग चयन प्रक्रिया के लिए उम्र कितनी होनी चाहिए।

Air force में X और Y group के लिए आयु सीमा

दोस्तों अगर आप X group या Y group को join करना चाहते है तो इसके लिए आयु सीमा की बात करूँ तो मै आपको बताना चाहूंगा की X या Y group के उम्मीदवारों का जन्म 16-01-2001 और 29-12-2004 (दोनों दिन सम्मिलित) के बीच होना चाहिए, और अगर अधिकतम उम्र की बात करे तो मै आपको बताना चहुंगा की आपकी अधिकतम उम्र 21 वर्ष होनी चाहिए। air force में X या Y group में जब भी भर्ती आती है तो उसमे कम से कम आपको 12th पास करना होता है और तब ही आप X या Y group में आवेदन कर सकते है।

NDA के द्वारा air force के लिए आयु सीमा

दोस्तों अगर आप nda करके ari force में जाना चाहते है तो उसके लिए आपकी उम्र कम से कम 15.7 वर्ष होनी चाहिए, और अगर मै अधिकतमं उम्र की बात करूँ तो आपकी अधिकतम उम्र 18.7 वर्ष होनी चाहिए, अगर आपकी उम्र इन दोनों के बीच है तभी आप NDA को ज्वाइन कर सकते है। और जब आपका  NDA में selection हो जाता है तो आप 2 से 3 वर्ष तक पढाई करते है और आपको air force के लिए तैयार किया जाता है, और उसके बाद air force में किसी बड़े पद पर आपको selection होता है। अगर मै air force के पदों की बात करूँ तो जैसा की आपको पता होगा की air force में कुल 17 पद होते है और जिसमे ज्यादा तर पोस्टे पड़े पदों वाली होती है, और जो भी पड़े पद होते है वो सभी NDA के माध्यम से ही होते है।

Airforce me kitni height chahiye

अगर मै air force की भर्ती होने के लिए हाइट की बात करूँ तो मै आपको बताना चाहूंगा की air force में बहुत सारे पद होते है और लगभग सभी रैंक के लिए हाइट का मापदंड अलग अलग होता है, और मै आपको जानकारी के लिए बता दूँ की air force में क्षेत्र के अनुसार भी हाइट का मापदंड अलग अलग होता है। अगर मै air force में कम से कम हाइट  की बात करूँ तो  air force की भर्ती के लिए स्वीकार्य न्यूनतम हाइट 152.5 सेमी होनी चाहिए , और इसके इलावा अगर मै अधिकतम हाइट की बात करूँ तो air force के लिए अधिकतम हाइट 175 Cm होनी चाहिए। और air force में लगभग सभी पोस्ट में इन्ही दो हाइट अंदर ही सभी रैंकों के लिए हाइट का मापदंड होता है, तो चलिए हम अलग अलग सभी रैंक के लिए हाइट का मापदंड समझ लेते है।

उत्तरी भारत और पहाड़ियों के राज्यों  में Air Force के लिए height

दोस्तों अगर मै उत्तरी पहाड़ियों राज्यों के अभ्यर्थियों में गोरखास, कुमाओनिस, गढ़वालिस, असमिया और नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, त्रिपुरा, सिक्किम और उत्तरांचल के पहाड़ी इलाकों से संबंधित शामिल हैं, और इन सभी राज्य के लिए हाइट का मापदंड कुछ इस प्रकार से है –

Trade Height
Auto Tech162.5  सेंटी मीटर
GTI and PJI162.5 सेंटी मीटर
IAF(P)175 सेंटी मीटर
Musician162 सेंटी मीटर

उत्तरी भारत और पहाड़ियों के राज्यों को छोड़ कर बाकि सभी राज्यों  में Air Force के लिए height

दोस्तों अगर भारत के उत्तरी भारत और पहाड़ी राज्यों को छोड़ दिया जाय तो बाकि के सभी राज्यों के लिए air force में हाइट का मापदण्ड थोड़ा बहुत अलग होता है, तो चलिए हम table के  माध्यम से समझने  का प्रयाश करते है।

Trade Height
Auto Tech165 सेंटी मीटर
GTI and PJI167 सेंटी मीटर
IAF(P)175 सेंटी मीटर
Musician162 सेंटी मीटर

air force ka kya kaam hota hai

Airforce ka Chief kaun hai

इस लेख में आपने सीखा Airforce kya hai और Airforce meaning in Hindi indianairforce.nic.in हमें उम्मीद है ये जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित हो

Leave a Reply

Your email address will not be published.