ईएमआई क्या है, EMI full form in Hindi, EMI meaning in hindi

ईएमआई (समान मासिक किस्त) अक्सर हममें से बहुत लोग अपने किसी कार्य, bussiness, घर बनाने, product खरीदनें के लिए loan लेते हैं और अधिकतर loans banks द्वारा ही लिए जाते हैं हालाँकि बहुत से finance companies भी हैं जिनसे हम loan ले सकते हैं।

और यदि आप online shopping करते होंगे तो definitely amazon, flipkart जैसी बड़ी ecommerce companies का इस्तेमाल किया है इनपर भी हमें ईएमआई का option मिलता है शायद आपनें notice किया हो तो।

आपको जानकर खुशी होगी की ईएमआई की वजह से online shopping ज्यादा आसान हो गयी है।

EMI kya hai, What is EMI in hindi

ईएमआई का फुल फॉर्म Equated monthly installment होता है यानी की यदि आप ईएमआई पर कुछ खरीदते हैं तो आपको हर महीने equal पेमेंट करनी होगी क्योंकि आपके खरीदे हुए समान की ईएमआई को आपके द्वारा चुने हुए पेमेंट tenure के हिसाब से महीनो में बराबर बराबर डिवाइड कर दिया जाता है

और उस loan को चुकानें के तरीके को ही ईएमआई कहा जाता है। वैसे तो आप कहीं भी कुछ भी loan पर लें जाहिर बात है interest तो लगेगा ही, यानीं की मूल धन के आलावा हमें ब्याज भी चुकाना होता है।

लेकिन शायद आपनें no cost ईएमआई भी सुना हो, हालाँकि ये option सिर्फ online shopping sites पर ही available है और इसका सबसे बड़ा फायदा ये होता है की हमें कोई भी interest rate नहीं देना होता है।

लेकिन यदि आप shopping के आलावा कोई अन्य loan लेना चाहते हैं या कुछ खरीदना चाहते हैं तो आपको interest देना ही होगा, और सभी companies के interest rate अलग अलग होते हैं।

तो चलिए हम आपको इन दो तरीकों से बताते हैं की EMI क्या है, पहला ईएमआई पर vehicle खरीदना और दूसरा home loan

आपको ईएमआई के बारे में कुछ खास जानकारी हो या ना हो लेकिन निश्चित रूप से आपको पता होगा की vehicle ईएमआई पर ख़रीदे जाते हैं जैसे की car, bikes, ये रहा उसका एक example

EMI kya hai

जैसा की आप ऊपर image में देख सकते हैं ये एक car hyundai elatra का 3 year loan period के लिए monthly installment है 65,552 INR

आप देख सकते हैं ऊपर दिखाई गयी car का final price लगभग 20,00,000 है, loan और interest मिलाकर payable amount है 23,60,232 INR और वो भी downpayment के बाद, हालाँकि आप अपनें हिसाब से loan period select कर सकते हैं 3 के बजाय 5 year भी कर सकते हैं लेकिन interest बढ़ जायेगा।

अब ये रकम 23,60,232 को हमें 3 year में चुकाना होगा जिसको हर महीनें आपको अदा करना होगा, तो 3 year यानीं की 36 month, इस हिसाब से इस रकम के लिए आपकी ईएमआई होगी 65,562 INR, यही monthly भुगतान ईएमआई कहा जाता है।

मान लीजिये की यदि आप कोई ऐसी चीज ईएमआई पर लेते हैं जिसकी कीमती interest मिलाकर लगभग 2,00,000 INR होंगे और उसका loan period आप 3 year चुनते हैं तो आपकी monthly ईएमआई लगभग 5555 INR होंगे, यानीं की 3 साल तक हर महीनें लगभग 5555 INR भरनें।होंगे

और जाहिर सी बात है की एक साथ आप बड़ी रकम भले ही ना अदा कर पाएं लेकिन ईएमआई की मदद से अपनें काम को आसान बना सकते हैं।

होमलोन

EMI kya hai

चलिए हम मान लेते हैं की आप homeloan लेते हैं जोकि है 5,00,000 INR, जिसका tenure हम three year चुनते हैं तो 6.90% interest rate के अनुसार total amount हुआ, 5,54,964 INR (Finance copanies, banks के interest rates अलग अलग हो सकते हैं)

तो इस amount का three years के लिए monthly ईएमआई 15,416 INR होगा, यानीं की आप एक बार किसी bank या finance company से loan लेकर अपना घर बनवा सकते हैं और उस बड़ी राशि को आप किश्तों में अदा कर सकते हैं।

वैसे तो offline process में कुछ लेना हो तो ईएमआई के लिए थोड़ा time लग सकता है, लेकिन इसका ये नहीं की ईएमआई का इस्तेमाल नहीं किया जाता है, बहुत से लोगों के द्वारा ईएमआई का इस्तेमाल किया जाता है, banks, और finance companies का मुनाफा उनके interest rate, loan amount, और loan period (Tenure) पर depend करता है।

लेकिन आपको जानकर खुसी होगी की online world में “No cost EMI” का option भी avaiable है जोकि बहुत ही अच्छा option है और इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल भी किया जाता है, “No cost EMI” का मतलब हुवा आपको ईएमआई में सिर्फ मूल धन ही अदा करना होगा।

उसपर आपको कोई भी interest नहीं देना होगा. यदि आप amazon, flipkart जैसी sites का इस्तेमाल करते हैं तो “No cost EMI” आपके लिए एक best option साबित हो सकता है।

तो हमनें आपको ईएमआई के बारे में पूरी जानकारी दे दी है लेकिन यदि अभी भी आपके मन में को doubt है तो comment में पूँछ सकते हैं, definitely doubt तो होगा की क्यूंकि ईएमआई है ऐसी चीज, और यदि आप No cost ईएमआई के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारे next article को पढ़ सकते हैं।

क्यूंकि no cost ईएमआई आपके काफी काम की चीज है, क्यूंकि यदि आप कुछ खरीदना चाहते हैं जिसकी कीमत 10,000 20,000 30,000 50,000+ INR है जोकि आप एक बार में नहीं चुका सकते हैं तो चिंता की कोई बात नहीं है।

आप उसे खरीद सकते हैं और वो भी 0 downpayment के साथ, यानीं की उसे खरीदनें पर आपको payment नहीं करनीं पड़ेगी और free में वो product आपको मिल जायेगा, और next month से थोड़ा थोड़ा करके उसकी ईएमआई भर सकते हैं।

नो कॉस्ट ईएमआई

यदि आप नो कॉस्ट ईएमआई पर कोई खरीददारी करते हैं तो आपको उसपर interest नहीं pay करना पड़ेगा, आपको आपके ख़रीदे गए product के लिए सिर्फ मूल धन को pay करना होगा।

no cost EMI की सबसे अच्छी बात ये है की आप EMI पर prodct खरीद भी सकते हैं और जोकि आप installments में अदा कर सकते हैं और फिर इसके लिए आप कोई भी tenure चुनें, tenure नो कॉस्ट ईएमआई को प्रभावित नहीं करेगा।

वैसे तो normal bank EMI या financial companies EMI पर खरीददारी पर हमें हर हाल में interest pay करना होगा लेकिन यदि आप online shopping करते हैं तो नो कॉस्ट ईएमआई आपके लिए काफी ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकता है।

क्यंकि हमें amazon flipkart जैसी बड़ी ecommerce sites पर नो कॉस्ट ईएमआई का option मिलता है जिसका इस्तेमाल करके हम shopping कर सकते हैं और किसी extra cost पर।

Ecommerce companies पर हमें कई सारे offers मिलते रहते हैं, भिन्न भिन्न prodcts पर भिन्न भिन्न offer मिलते रहते हैं और No cost EMI भी एक तरह से offer ही है क्यूंकि सभी products पर नो कॉस्ट ईएमआई available नहीं होता है।

Loan देने वाले banks या finance companies के main income source interest ही होते हैं और उनके interest, interest rate, tenure, loan amount पर depend करता है।

लेकिन बहुत से products amazon, flipkart etc पर No cost EMI पर available होते हैं लेकिन आपको product नो कॉस्ट ईएमआई पर मिल रहा है तो इसका मतलब ये नहीं है की bank को इससे फायदा नहीं होगा, bank को फायदा होगा क्यूंकि ये sellers और banks की deals पर depend करते हैं।

यही reason है की सभी products पर नो कॉस्ट ईएमआई available भी नहीं होता है।

यदि आपका बजट है कि आप फुल अमाउंट पर कर के प्रोडक्ट खरीद सकते हैं तो अच्छी बात है क्योंकि यदि प्रोडक्ट लेने से पूरा पेमेंट हो जाए तो बात के लिए रहती है तो कोई समस्या नहीं देती है लेकिन यदि आपके पास इतना अमाउंट नहीं है कि आप उस अमाउंट को एक बार में आध कर सके तो कोई बात नहीं आप नो कॉस्ट ईएमआई का इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि यदि छोटे प्रोडक्ट की बात हो तो अलग है उन्हें कोई भी आसानी से फुल पेमेंट पर खरीद सकता है लेकिन यदि बड़े प्रोडक्ट की बात हो तो यह हमारी जेब पर भारी पड़ सकते हैं क्योंकि उनका खर्च कुछ ज्यादा ही होता है लेकिन आप एक बार मै इतनी बड़ी रकम नहीं आता कर सकते हैं तो आपको ईएमआई का ऑप्शन सेलेक्ट करना चाहिए।

लेकिन इसमें कस्टमर का तब ज्यादा फायदा होता है जब वह प्रोडक्ट नो कॉस्ट ईएमआई पर अवेलेबल हो क्योंकि ऐसे में हमें उस प्रोडक्ट के फिक्स रेट से एक रुपए भी अधिक नहीं देने होंगे यानी कि किसी भी तरह का ब्याज नहीं पड़ेगा।

EMI bhugtan kya hai

ईएमआई पर खरीददारी करने पर हर महीने किस्त भरनी होती है जोकि ईएमआई भुगतान कहा जाता है।

इस आर्टिकल से आपने सीखा EMI kya hai और EMI full form in Hindi, EMI meaning in Hindi हमें उम्मीद है ये जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.