साइटमैप क्या है, Sitemap meaning in Hindi, Sitemap kya hai

साइटमैप वेबसाइट की लिंक्स का एक संग्रहालय होता है जिसमें उस वेबसाइट के सभी लिंक शामिल होते हैं और सभी प्रकार के कॉन्टेंट लिंक की लिस्ट अलग अलग से प्रोवाइड की जाती है जिससे सर्च इंजंस को वेबसाइट के लिंक और उसके कंटेंट को रीड करने और रैंक करने में आसानी रहते हैं। Sitemap kya hai।

Sitemap kya hai

साइटमैप एक फाइल प्रोटोकॉल होता है और एक साइट मैप में किसी एक विशिष्ट वेबसाइट के लिंक्स की लिस्ट मौजूद रहती है और वह लिंक कैटेगरी में एक मुख्य पोस्ट फोटो वीडियो इत्यादि के आधार पर अलग-अलग डायरेक्टरी में डिवाइड रहते हैं।

और यह इस बात पर निर्भर करता है कि साइटमैप किस साइटमैप जनरेटर का इस्तेमाल करके बनाया गया है क्योंकि सभी साइटमैप जेनरेटर अलग अलग तरीके से कार्य करते हैं, जैसे कि एक्सएमएल साइटमैप जेनरेटर फ्री वर्जन वेबसाइट की पोस्ट लिंक का साईट मैप जनरेट करता है जो कि सिर्फ 500 पेज तक सीमित रहता है, वेबसाइट के पोस्ट को अपडेट करने पर साइटमैप में अपडेटेड डेट स्वयं बदल जाती है।

जबकि वर्ल्ड प्रेस कांटेक्ट मैनेजमेंट सिस्टम का योस्ट प्लगइन वेबसाइट के सभी पेज, सभी पोस्ट, कैटेगरी, टैग इत्यादि के लिंक्स को भी अपने साइटमैप में शामिल करता है जिससे लिए अलग डायरेक्टरी का इस्तेमाल करता है, जबकि जेटपैक साइटमैप वेबसाइट के पोस्ट के साथ साथ इमेज साइटमैप भी जनरेट करता है।

हालांकि ये कुछ ऐसे कंप्यूटर प्रोग्राम होते हैं जोकि वेबसाइट्स के लिए साइड में जनरेट करने का कार्य करते हैं जबकि ज्यादातर बड़ी वेबसाइट खुद अपने साइटमैप को डिजाइन करती हैं।

साइटमैप में पोस्ट के अपडेट होने की तारीख और समय भी मौजूद रहती है जिसे सर्च इंजन को पोस्ट अपडेट के बारे में जल्दी पता चलता है, लेकिन वेबसाइट का साइटमैप सर्च इंजन में रैंकिंग की गारंटी नहीं देता है हो सकता है की बिना साइटमैप वाली वेबसाइट भी साइटमैप वाली वेबसाइट से अच्छी रैंक हासिल कर ले क्योंकि सर्च इंजन में रैंकिंग के लिए ढेरों कंडीशन लागू होती हैं।

उपयोगकर्ता और सर्च इंजन के लिए सहायक

क्योंकि साइटमैप वेबसाइट लिंक्स की लिस्ट को एक विशेष प्रोटोकॉल के तहत इकट्ठा करते हैं और यह सर्च इंजन के लिए सहायक होने के साथ ही उपयोगकर्ता के लिए भी सहायक होता है क्योंकि ऐसे में कोई भी उपयोग करता किसी वेबसाइट के साइटमैप में जाकर उसके लिंक्स का संग्रह देख सकता है की टोटल कितनी पोस्ट है या फिर कितने प्रकार के पोस्ट है जैसे की कैटेगरी, टैग, पोस्ट, इमेज, पेज इत्यादि।

कुछ वेबसाइट वर्ष और महीने के आधार पर साइटमैप में लिंक प्रदर्शित करते हैं जबकि कुछ वेबसाइट एक ही पेज पर सभी लिंक्स प्रदर्शित करते हैं जोकि उपयोगकर्ता के लिए काफी कॉम्प्लिकेटेड होता है, और ज्यादातर वेबसाइट के साइटमैप के पेज छोटे छोटे टुकड़ों में प्रदर्शित किए जाते हैं जैसे की एक पेज पर 10 लिंक या फिर 200 लिंक्स या फिर 1000 लिंक्स इत्यादि इससे अधिक लिंक अगले पेज पर प्रदर्शित किए जाते हैं।

सर्च इंजन बिना साइटमैप के पोस्ट को इंडेक्स करेंगे या नहीं

सभी सर्च इंजन बिना किसी साइड में फिर भी आपकी वेबसाइट के सभी यूआरएल को क्रॉल कर सकते हैं और इंडेक्स भी कर सकते हैं क्योंकि सभी सर्च इंजन वेबसाइट के सभी युवा रियल को क्रॉल करने का पूरा प्रयास करते हैं जो कि कई तथ्यों पर निर्भर करता है कि सर्च इंजन आपके नए ब्लॉग पोस्ट को कितने समय में crawl करेगा और इंडेक्स करके सर्च रिजल्ट में दिखाएगा।

लेकिन इसमें मुख्य समस्या यह होती है कि सभी वेबसाइट पर ढेरों ऐसे यूआरएल भी होते हैं जो कि उस वेबसाइट के उपयोगकर्ताओं के लिए बिल्कुल भी महत्वपूर्ण नहीं होते हैं इसलिए सभी वेबसाइट ऑनर्स के लिए यह महत्वपूर्ण होता है कि अपनी वेबसाइट पर robots.txt फाइल का इस्तेमाल करके फोन फाइल को ब्लॉक करें जिन्हें वो सर्च इंजन में नहीं दिखाना चाहते हैं।

लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल भी नहीं है कि यदि आप robots.txt फाइल का इस्तेमाल करते हैं या noindex tag का इस्तेमाल करते हैं तो इसका मतलब ये बिलकुल भी नहीं है की आपको किसी भी साइटमैप की जरूरत नहीं है, क्योंकि सर्च इंजन आपके वेबसाइट के सभी यूआरएल को इंडेक्स तो कर लेंगे लेकिन आपको सर्च इंजन को यह बताना होगा कि आप क वेबसाइट के महत्वपूर्ण यूआरएल कौन-कौन से हैं जिन्हें आप अपने ब्लॉग वेबसाइट के साइड में अपने डाल सकते हैं।

और जब आप अपनी वेबसाइट पर कोई भी पोस्ट डालते हैं तो जब गूगल और अन्य सर्च इंजन उस यूआरएल को crawl करके इंडेक्स करते हैं तो वह प्रक्रिया अंतिम प्रक्रिया नहीं होती है बल्कि जब सर्च इंजन किसी भी ब्लॉक पोस्ट को इंडेक्स करता है तो वह अपने अलगोरिदमा के अनुसार समय-समय पर उस यूआरएल को पुनः क्रॉल करता है और वह ब्लॉग पोस्ट में मौजूद जानकारी को अच्छे से समझने का प्रयास करता है ताकि सर्च इंजन अपने उपयोगकर्ताओं को उचित कंटेंट प्रोवाइड कर सकें।

और जब आप अपनी वेबसाइट का साइड में बनाते हैं तो वह साइड में आपके वेबसाइट की सभी पोस्ट का यूआरएल ऑटोमेटिक शामिल कर लेता है और जब आप अपने उस पोस्ट में कोई भी सुधार करते हैं तो साइटमैप उसे सुधार की तिथि को भी शामिल कर लेता है जिससे कि सर्च इंजन साइटमैप में मौजूद यूआरएल को अन्य यूआरएल के मुकाबले ज्यादा महत्व देता है और साइटमैप के जरिए सर्च इंजन को अधिक जानकारी भी मिल जाती है।

और जब कोई भी नया ब्लॉग पोस्ट सर्च इंजन इंडेक्स कर लेता है तो उसे नई जानकारी अपडेट होने के बाद उस आर्टिकल को अपडेट रखने के लिए ताकि अपने उपयोगकर्ताओं को सर्च इंजन लेटेस्ट अपडेटेड जानकारी प्रदान कर सके इसके लिए लगातार साइटमैप के युवा रियल को crawl करता है जिससे बेहतर रैंकिंग की उम्मीद होती है।

Sitemap kaise banaye

साइटमैप बनाने के अलग अलग तरीके हैं आप चाहे तो खुद से भी अपनी वेबसाइट के लिए कोई साइड में बना सकते हैं लेकिन यदि आप खुद से कोई साइड में बनाते हैं तो उसमें आपको समय-समय पर अपनी वेबसाइट के लिंक को डालना होगा जो कि आपके लिए काफी ज्यादा कठिन पड़ सकता है लेकिन इसका दूसरा सलूशन भी मौजूद है जिसके लिए ढेर सारी वेबसाइट मौजूद हैं और आप उन वेबसाइट का इस्तेमाल करके बहुत ही आसानी से अपनी वेबसाइट के लिए साइड में बना सकते हैं जिसके लिए सबसे ज्यादा प्रसिद्ध वेबसाइट sitemap.org है।

Sitemap.org साइड में बनाने के दो विकल्प देता है जिसमें से पहला विकल्प होता है फ्री साइट मैप जिसमें अधिकतम 500 यूआरएल शामिल किए जा सकते हैं यानी कि यदि आपके वेबसाइट पर 500 से कम यूआरएल हैं तो यह साइटमैप अपनी वेबसाइट के लिए बना सकते हैं लेकिन यदि आपकी वेबसाइट पर 500 से अधिक यूआरएल हो जाते हैं तो आपको प्रीमियम प्लान को चुनना होगा जिसके लिए आपको बताएं करना होगा और फिर उसमें आप अपनी वेबसाइट के अनलिमिटेड लिंक को शामिल कर सकते हैं जिसके लिए आपको कुछ नहीं करना होगा बल्कि वह साइटमैप आपके वेबसाइट के सभी यूआरएल को ऑटोमेटिक सिंक कर लेगा।

  1. इसके लिए बस आपको sitemap.org पर जाना है
  2. अपनी वेबसाइट का यूआरएल डालें
  3. स्टार्ट बटन पर क्लिक करें

बस कुछ ही सेकंड या फिर मिनट में आपके वेबसाइट का साइटमैप बनकर तैयार हो जाएगा और इसमें कितना समय लगता है यह इस बात पर निर्भर करेगा कि आपके वेबसाइट पर मौजूदा समय में कुल कितने ब्लॉक पोस्ट मौजूद है क्योंकि आपके वेबसाइट पर जितने ज्यादा कांटेक्ट होंगे उसको स्कैन करने में उतना ही ज्यादा टाइम लगेगा तो बस कुछ समय इंतजार करें और जब आपका sitemap में बनकर तैयार हो जाएगा तो sitemap.org आपको एक URL देगा जोकि कुछ इस तरह से होगा example.com/sitemap.xml.

और सुनिश्चित करें कि आपका ब्लॉग blogger.com पर है ब्लॉग, वेबसाइट किसी अन्य कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम पर है या आपने अपना खुद से वेबसाइट को डेवलप किया है तो आपको अपने प्रोग्राम फाइल में साइटमैप फाइल को अपलोड करने की जरूरत पड़ेगी।

WordPress website ka sitemap kaise banaye

यदि आप वर्डप्रेस वेबसाइट का इस्तेमाल करते हैं तो आपको किसी भी थर्ड पार्टी वेबसाइट का इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि ढेर सारी ऐसे प्लगइन मौजूद हैं जिनका इस्तेमाल करके आप अपनी वेबसाइट के लिए साइड में बना सकते हैं जिसके लिए कई सारे seo प्लगइन मौजूद हैं जोकि आपको फ्री साइट मैप जनरेट करने की परमिशन देते हैं जिनमें मुख्य रुप से योस्ट seo और जेटपैक मौजूद हैं।

बस इसके लिए आपको अपने वर्डप्रेस वेबसाइट में इन प्लगइन को इंस्टॉल करना है और उसके बाद प्लगइन की सेटिंग में जाकर साइटमैप को इनेबल कर देना है और उसके बाद आप अपनी वेबसाइट का साइड में खोल कर देख सकते हैं जिसका यूआरएल कुछ इस तरह से होगा, example.com/sitemap.xml या फिर example.com/sitemap_index.xml.

Sitemap ko search engine me kaise submit kare

जब आप अपनी वेबसाइट के लिए साइट में बना ले तो उसके बाद आप का मुख्य काम होता है उसे साइटमैप को सर्च इंजन में सबमिट करना क्योंकि जब तक आप उस साइड में को सर्च इंजन में सबमिट नहीं करेंगे तब तक उसका कोई भी महत्व नहीं है क्योंकि सर्च इंजन जब उस साइटमैप को crawl ही नहीं करेगा तो कैसे उन्हें प्रोसेस करेगा।

और इसके लिए आपको सभी सर्च इंजन में मैनुअली अपना साइटमैप सबमिट करना होगा जैसे कि गूगल बिंग इत्यादि, इसके साथ ही आपको अपनी वेबसाइट के robots.txt फाइल में भी सबमिट करना होगा, और यदि आपने अपनी वेबसाइट के लिए अभी तक robots.txt फाइल नहीं बनाया है तो robots.txt फाइल भी बनाएं और उसमें भी अपनी वेबसाइट का साइटमैप डालें।

Google search engine me sitemap kaise submit kare

  1. सबसे पहले अपने गूगल सर्च कौन से वाले अकाउंट में जाएं और लेफ्ट साइड में 3 लाइन पर क्लिक करके साइटमैप/लिंक्स पर क्लिक करें
  2. अपनी वेबसाइट का साइटमैप एड्रेस डालकर सबमिट करें
  3. सबमिट पर क्लिक करें

जब आपका साइटमैप सबमिट हो जाए तो आप पेज को रिफ्रेश करके देख सकते हैं हो सकता है कि इसमें आपको प्रोसेसिंग या फिर सकसीड देखने को मिल, और यदि सफलतापूर्वक सबमिट हो गया है तो उसमें आपको देखने को मिल सकता है कि उसमें कुल कितने यूआरएल sync किए गए हैं।

कई बार यूं ही किसी त्रुटि की वजह से साइटमैप सबमिट नहीं हो पाता है तो यदि साइटमैप सबमिट करने के बाद सक्सेस नहीं हो पाता है तो कृपया कुछ देर तक प्रतीक्षा करें सफलतापूर्वक आपका साइट मैप इंडेक्स हो जाएगा लेकिन यदि फेचिंग failed हो जाता है तो अपने सबमिट किए हुए साइट में थ्री डॉट पर क्लिक करके डिलीट पर क्लिक करें, और उस साइटमैप को फिर से सबमिट करें निश्चित रूप से आपका साइट मैप सबमिट हो जाएगा और सफलतापूर्वक प्रोसेस भी हो जाएगा।

और यदि आप गूगल सर्च इंजन में अपनी वेबसाइट के मुख्य साइट में भी को सबमिट कर देते हैं तो उसके अतिरिक्त आने वाले सभी साइटमैप के युवा रियल ऑटोमेटिक इंडेक्स हो जाएंगे जैसे की पोस्ट का साइटमैप है या फिर पेज का या author का इत्यादि।

Bing me sitemap kaise submit kare

बिंग सर्च इंजन में भी साइटमैप को सबमिट करने की लगभग वही प्रक्रिया है लेकिन इसमें आपको ध्यान देना है कि बिंग में आपको अपनी वेबसाइट के सभी साइटमैप को मैनुअली सबमिट करना होगा, जैसे कि post का अलग पेज का अलग ऑथर का अलग इत्यादि।

  1. अपने बिंग वेबमास्टर टूल में जाएं
  2. लेफ्ट साइड में साइटमैप पर क्लिक करके अपना साइटमैप एड्रेस डालें
  3. सबमिट पर क्लिक करें

इस लेख में आपने सीखा Sitemap kya hai और Sitemap meaning in Hindi हमें उम्मीद है ये जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी।