फिशिंग क्या है, phishing meaning in Hindi 

फिशिंग एक ऐसा तरीका होता है जिसका इस्तेमाल करके हैकर लोगों को हैक करने का काम करते हैं और जिस भी व्यक्ति को इंटरनेट के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है वह फिशिंग पेज से बहुत ही आसानी से एक हो जाते हैं। Phishing ka matlab kya hota hai.

phishing kya hai

फिशिंग एक ऐसा पेज होता है जोकि किसी वेबसाइट की तरह दिखने जैसा बनाया जाता है जिससे कि उपयोगकर्ता को लगता है कि यह ओरिजिनल वेबसाइट है और वह व्यक्ति उस पेज पर अपनी पर्सनल जानकारियां जैसे कि लॉगइन क्रैडेंशियल्स यानी कि उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड या फिर क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड डिटेल इत्यादि डालता है तो ऐसे में सभी जानकारियां हैकर के पास पहुंच जाती हैं और हैकर उन जानकारियों के जरिए उस व्यक्ति के अकाउंट में लॉगिन कर लेते हैं और उनके अकाउंट को हैक करके उसे अपने मन मुताबिक ऑपरेट करते हैं।

फिशिंग पेज का एक लिंक जनरेट करके हैकर उस व्यक्ति के पास मोबाइल नंबर या फिर ईमेल एड्रेस पर भेजता है जिससे वह हैक करना चाहता है और वह है कर उस मैसेज में कोई भी लालच दे सकता है या किसी भी प्रकार की सर्विस का वादा कर सकता है जिससे कि वह व्यक्ति इस पेज को खोलने के लिए विवश हो जाता है।

उदाहरण के लिए यदि मान लीजिए कि हैकर आपके फेसबुक अकाउंट को हैक करना चाहता है तो सबसे पहले आकर एक फिशिंग पेज बनाएगा जो कि बिल्कुल फेसबुक के होम पेज की तरह दिखेगा और वह उस पेज के लिंक को आपक पास किसी खास मैसेज के साथ भेज देगा जिससे कि आप उस लिंक पर क्लिक कर दें और जब लिंक पर क्लिक करेंगे तो आपको यह लगेगा कि यह फेसबुक खोला है और आप अपना पासवर्ड और मोबाइल नंबर डालकर लॉगइन करेंगे लेकिन वह एक फिशिंग पेज होता है तो ऐसे में आपके द्वारा डाली गई जानकारी हैकर के पास पहुंच जाएगी।

Hacking se kaise bache

  • सुनिश्चित करें कि आपके पास कोई ऐसा ईमेल या मैसेज ना आया हो जिसमें कोई लिंक शामिल हो
  • और यदि आपको कोई ऐसा मैसेज आया जिसमें कोई लिंक शामिल है तो उसे खोलने से पहले यह सुनिश्चित करें कि क्या वह लिंक ओरिजिनल है या फिर किस व्यक्ति या कंपनी द्वारा भेजा गया है
  • यदि आप उस लिंक के बारे में सुनिश्चित है कि उसमें क्या है और आपको क्या मिलेगा तो उसे खोल सकते हैं लेकिन यदि आपको कुछ भी आईडिया नहीं है की उस लिंक को खोलने पर क्या होगा तो उसे ना खोलें
  • और यदि आपने उस लिंक को खोल लिया है तो उस पर मांगी गई जानकारियां ना डालें जानकारियां डालने से पहले आप उसे गूगल में सर्च कर ली जैसे मान लीजिए कि आपने कोई लिंक खोला और उसमें आपको फेसबुक होम पेज दिखाई देता है जिसमें आपको अपना पासवर्ड और मोबाइल नंबर डालना होगा तो वहां पर ना डालें, बल्कि गूगल में फेसबुक सर्च करें और वहां से facebook.com को खोल ले फिर निश्चिंत होकर अपना पासवर्ड और मोबाइल नंबर डालकर लॉग इन कर सकते हैं

इस लेख में आपने सीखा phising kya hai और phishing meaning in Hindi हमें उम्मीद है ये जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *