माउस क्या है, Mouse meaning in Hindi 

Mouse का full form Manually Operated User Selection Equipment होता है, माउस एक इनपुट डिवाइस है जो कि कंप्यूटर को कमांड देने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, यह कंप्यूटर से बाहर का एक हिस्सा होता है जोकि यूएसबी पोर्ट/ब्लूटूथ के जरिए कनेक्ट किया जाता है।

Mouse kya hai

माउस एक कंप्यूटर इनपुट डिवाइस होता है जोकि यूजर के कमांड पर कंप्यूटर को ऑपरेट करने का कार्य करता है, जैसे कि किसी फाइल में जाना फाइल को डिलीट करना या अन्य किसी भी तरह के फाइल, एप्लीकेशन, सॉफ्टवेयर पर एक्शन लेना इत्यादि।

Mouse ka kya kary hai

माउस का कार्य कंप्यूटर को कमांड देना या कंप्यूटर को ऑपरेट करना होता है, जिसके जरिए हम कंप्यूटर में कोई भी एक्शन ले सकते हैं।

Mouse kitne prakar ke hote hain

माउस मुख्य रूप से पांच प्रकार के होते हैं जिनमें से तीन प्रकार के माउस सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाते हैं, जो कि हैं ऑप्टिकल माउस वायरलेस माउस और टच माउस, जितने से टच माउस मुख्य रूप से लैपटॉप में इस्तेमाल किया जाता है।

Mechanical mouse

मैकेनिकल माउस, माउस की दुनिया का पहला माउस था जो कि एक बॉल के आधार पर चलता था, इसमें माउस को घुमाने पर बॉल घूमती है जिससे कंप्यूटर का कर्सर भी घूमता है, लेकिन इस तरह के माउस का इस्तेमाल अब बिल्कुल ना के बराबर किया जाता है।

Optical mouse

ऑप्टिकल माउस का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है क्योंकि इसमें कोई बॉल नहीं लगी रहती है, बल्कि पॉइंटर के लिए एलईडी लाइट का इस्तेमाल किया जाता है जिससे इस माउस को मैनेज करना बहुत ही ज्यादा आसान हो जाता है, और माउस के होने के साथ-साथ कंप्यूटर में कर्सर भी घूमता है।

Trackball mouse

ट्रैकबॉल माउस एक ऐसा माउस होता है जिसका पॉइंटर ऊपर की तरफ होता है, जिसे सिर्फ एक उंगली से घुमाया जा सकता है, और उस पॉइंटर बॉल के घूमने के साथ साथ कंप्यूटर का कर्सर भी घूमता है।

Wireless mouse

वायरलेस माउस की डिमांड धीरे-धीरे मार्केट में बढ़ रही है क्योंकि यह एक ऐसा माउस होता है, जिससे कंप्यूटर को ऑपरेट करने के लिए किसी भी वायर की जरूरत नहीं होती है बल्कि यह वायरलेस्ली कनेक्ट हो जाता है, और आप 2 मीटर, 4 मीटर या और भी अधिक दूरी से अपने कंप्यूटर को ऑपरेट कर सकते हैं, लेकिन वायरलेस माउस को अलग से चार्ज करें की जरूरत पड़ती है।

Touch mouse

टच माउस एक ऐसा माउस होता है जो कि किसी भी कंप्यूटर में मौजूद नहीं रहता है बल्कि टच माउस सिर्फ और सिर्फ लैपटॉप में इस्तेमाल किया जाता है, सभी कंपनियां अपने लैपटॉप में इनबिल्ट टच माउस प्रोवाइड करते हैं, इस माउस का इस्तेमाल स्मार्टफोन के टच की तरह किया जा सकता है और लैपटॉप के ऑन होते ही यह माउस आटोमेटिक ऑन हो जाता है, और लैपटॉप के ऑफ होने पर ऑटोमेटिक ऑफ हो जाता है।

माउस के पार्ट

राइट बटन

माउस के राइट बटन का इस्तेमाल किसी भी एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर या फाइल पर मौजूद विकल्पों को देखने और उस पर एक्शन लेने के लिए किया जाता है, जैसे कि यदि आपके डेस्कटॉप पर कोई फाइल मौजूद है तो आप उसे डिलीट कर सकते हैं एडिट कर सकते हैं, या फिर उसे कहीं भेज सकते हैं और यदि आपको इन विकल्पों को देखना है तो उस फाइल पर अपने कर्सर को ले जाकर राइट क्लिक करना होगा।

लेफ्ट बटन

माउस के लेफ्ट बटन का इस्तेमाल ओके और सेलेक्ट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है जैसे कि यदि आप किसी फाइल पर राइट बटन दबाकर विकल्पों को देखते हैं, तो यदि आपको फाइल डिलीट करनी है तो डिलीट विकल्प पर आपको लेफ्ट क्लिक करना होगा, और वह फाइल डिलीट हो जाएगी, या फिर किसी प्रोग्राम में फाइल को खोलना है तो उस पर डबल लेफ्ट क्लिक करना होगा, या फिर मान लीजिए आपके कंप्यूटर डेस्कटॉप पर कुल 10 फाइल मौजूद हैं और उनमें से आपको किसी एक फाइल को डिलीट करना है, और आप अपने कीबोर्ड के डिलीट बटन को प्रेस करेंगे तो कोई भी फाइल डिलीट नहीं होगी क्योंकि उनमें से कौन सी फाइल डिलीट करनी है, यह आपके कंप्यूटर को नहीं पता है इसलिए सबसे पहले आपको अपने कंप्यूटर की उस फाइल पर जाकर एक बार लिफ्ट क्लिक करना होगा, जिससे कि वह फाइल से लेट हो जाएगी फिर आपको डिलीट बटन दबाना होगा तो आपकी वह फाइल डिलीट होगी।

स्क्रॉल बटन

स्क्रोल बटन एक गोल बटन होती है जिसे हम अपनी फिंगर के मदद से घुमा सकते हैं, और यदि हम उससे आगे पीछे घूम आते हैं तो हमारा मौजूदा पेज ऊपर नीचे होगा।

ड्रागिंग

यदि आपके कंप्यूटर के कर सको किसी एक फाइल फोल्डर या प्रॉपर्टी से किसी दूसरे स्थान पर ले जाना है, तो आपको कर्सर को मूव करना होगा, जिसका कार्य माउस में मौजूद प्वाइंटर सिस्टम करता है बस मैं उसको किसी ऑब्जेक्ट पर रखना होगा, और माउस को दाएं बाएं आगे पीछे करना होगा, और आप जिस साइड को माउस खिसकाएंगे आपके कंप्यूटर का कर्सर उसी दिशा में खिसक जाएगा।

Mouse ka doosra name kya hai

मुख्य रूप से माउस को माउस के नाम से ही जाना जाता है, लेकिन कुछ लोग इसे प्वाइंटर या फिर कंप्यूटर कर्सर प्वाइंटर भी कहते हैं।

Mouse ki keemat kya hai

माउस की कीमत 70 से ₹80 से स्टार्ट होती है जो कि 4 से 5000 या इससे अधिक तक की कीमत तक जाता है, लेकिन आपको माउस किस कीमत पर मिलेगा यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस टाइप का माउस खरीदना चाहते हैं, यदि आप अपने बेसिक इस्तेमाल के लिए कोई नॉर्मल सा माउस खरीदना चाहते हैं तो ₹100 – 200 में आपको बेस्ट माउस मिल जाएंगे, और यदि आप लैपटॉप का टचपैड माउस लेना चाहते हैं तो आपको 1000 से ₹5000 तक लग सकते हैं।

इस लेख में आपने सीखा mouse kya hai और mouse meaning in Hindi हमें उम्मीद है ये लेख आपके लिए उपयोगी साबित होगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *