दुनिया का सबसे गरीब देश कौन सा है, Duniya ka sabse gareeb desh kaun sa hai 

जिस देश की जीडीपी सबसे कम होती है वो देश सबसे गरीब माना जाता है तो आज हम जीडीपी के आधार पर ही 10 सबसे गरीब देशो के बारे में चर्चा करेंगे हालंकि की इनकी जीडीपी कम ज्यादा होती रहती है तो इन देशो के गरीबी अमीरी की रैंकिंग कम ज्यादा होती रहती है यह रिपोर्ट 2021 के अनुसार है, Duniya ka sabse gareeb desh kaun sa hai।

यदि आप इसको जानने के लिए interested है तो इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े ताकि आपको एकदम हाल ही में जो देश गरीब घोषित किये गए है उनके जीडीपी के आधार पर आप लोगो को पता चल सके और एक बात और दोस्तों यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो अपने दोस्तों को social media के जरिये जरूर शेयर करें।

Duniya ka sabse gareeb desh kaun sa hai in Hindi

 1. सोमालिया ( Somalia )

अगर 2021 के अनुसार देखा जाये तो दुनिया के सबसे गरीब देशों में सोमालिया ( Somalia ) पहले स्थान पर है क्षेत्रफल के हिसाब से दुनिया का 44वां सबसे बड़ा देश सोमालिया 3 ओर से समुद्र से घिरा हुआ है

इस देश की अनुमानित जनसंख्या लगभग 14.3 मिलियन है इसके लगभग 85% निवासियों में सोमालीस जाति के लोग हैं 1960 में सोमालिया देश के एक स्वतंत्र देश का दर्जा मिला इस देश की गरीबी का कारण यहाँ की कमजोर अर्थव्यवस्था है इसके साथ ही इस देश में आयात निर्यात का न होना भी इसका एक कारण है

इस देश के लगभग 70% अर्थव्यवस्था खेती पर निर्भर है और अन्य देशो के साथ एकदम न के बराबर व्यापार होता है यहाँ की सरकार भी इस देश को गरीबी से उबारने में विफल हो जाती है

2. सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक

दुनिया के सबसे गरीब देशों में सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक देश का स्थान दूसरा है सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक एक छोटा सा देश है वहां की आबादी 46 लाख से थोड़ी ज्यादा है. लेकिन वहां गरीबी की दर 80.92% है यहाँ की ज्यादातर आबादी गरीबी से जूझ रही है इस देश में अनगिनत खनिज सम्पदा है लेकिन इस बावजूद भी इसको आज सबसे गरीब देशो में गिना जाता है

स्वतंत्र होने के बाद भी इस देश में राजनीतिक अस्थिरता, भ्रष्टाचार, आतंरिक गृहयुद्ध, हिंसा ने देश की अर्थव्यवस्था को पूरी तरह बर्बाद कर दिया जिससे यह देश कभी भी उभर नहीं पाया।

यह देश मध्य अफ्रीका में स्थित एक स्थल-रुद्ध (लैंडलॉक) देश है। इसकी सीमाएं उत्तर में चाड, पूर्व में सूडान, दक्षिण में कांगो लोकतान्त्रिक गणराज्य एवं काँगो गणराज्य एवं पश्चिम में कैमरुन से लगीं

3.  बुरुंडी ( Burudi )

यह दुनिया के सबसे गरीब देशों में तीसरे नंबर पर है 1962 में बुरुंडी ने स्वतंत्रता प्राप्त की और शुरू में एक राजशाही थी, लेकिन हत्याओं, तख्तापलट और क्षेत्रीय अस्थिरता के साथ  जातीय सफाई और अंततः दो गृह युद्ध और 1966 के दशक के दौरान और फिर 1990  के दशक में नरसंहारों के परिणामस्वरूप सैकड़ों हजारों लोगों की मौत हुई और अर्थव्यवस्था को अविकसित और आबादी को दुनिया के सबसे गरीब लोगों में से एक के रूप में छोड़ दिया गया

बुरुंडी पूर्वी अफ्रीका के अफ्रीकी ग्रेट झील क्षेत्र के पास बसा एक लैंडलाक्ड देश है बुरुंडी एक अविकसित विनिर्माण क्षेत्र के साथ एक भूमि-रहित, संसाधन-गरीब देश है। अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि है

4 . कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य (DRC)

कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य (DRC) यह दुनिया के सबसे गरीबो देशो में शामिल है गरीबी की लिस्ट में इस देश का पूरी दुनिया में 4 स्थान है मध्य अफ्रीका का एक देश है। यह क्षेत्रफल के हिसाब से उप-सहारा अफ्रीका का सबसे बड़ा देश है

और दुनिया में 11 वां सबसे बड़ा देश है। इस देश की लगभग आबादी 105 मिलियन है 2019 में, मानव विकास सूचकांक द्वारा DR कांगो के मानव विकास के स्तर को 189 देशों में से 175 वें स्थान पर रखा गया था इस देश में प्राकृतिक संसाधनों में बेहद समृद्ध है, लेकिन राजनीतिक अस्थिरता, बुनियादी ढांचे की कमी, भ्रष्टाचार, ये सब कही न कही इसको सबसे गरीब देशों में शामिल करने के लिए जिम्मेदार है 

5. लाइबेरिया ( Liberia )

यह देश दुनिया में सबसे गरीब देशों में 5 वें स्थान पर है आधिकारिक तौर पर लाइबेरिया गणराज्य, पश्चिम अफ्रीकी तट पर स्थित एक देश है और इसकी सीमा उत्तर पश्चिम में सिएरा लियोन, उत्तर में गिनी, पूर्व में आइवरी कोस्ट और दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में अटलांटिक महासागर से लगती है

इस देश की जनसँख्या लगभग 5 मिलियन है इस देश की आधिकारिक भाषा अंग्रेजी है लेकिन यहाँ 20 से अधिक स्वदेशी भाषाएँ बोली जाती है देश की राजधानी और सबसे बड़ा शहर मोनरोविया है

2009  की जनगणना के अनुसार इस देश की जनसँख्या  3,955,000 ठीक लेकिन यदि 2021 तक देखा जाये तो बहुत जनसंख्या हो गयी होगी

1980 में सेना ने तख्ता पलट कर राष्ट्रपति विलियम आर. टालबोर्ट को पद से हटा दिया और इसके साथ ही अस्थिरता का दौर शुरू हुआ, जो बाद में गृहयुद्ध में बदल  गया, जिसमें हजारों-लाखों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी, वहीं देश की अर्थव्यवस्था बर्बादी के कगार पर पहुंच गई। आज भी लाइबेरिया गृहयुद्ध और आर्थिक अव्यवस्था से उबरने का प्रयास कर रहा है

6. टोकेलाऊ { Tokelau }

यह देश दुनिया में सबसे गरीब देशों की लिस्ट में 6 वें स्थान पर है जिसे पहले यूनियन द्वीप समूह के रूप में जाना जाता था यह देश उत्तर-पूर्वोत्तर दक्षिणी प्रशांत क्षेत्र में न्यूजीलैंड का एक आश्रित क्षेत्र है और राजनीतिक रूप से न्यूजीलैंड से संबंधित हैं।

टोकेलाऊ की जनसंख्या लगभग 1500 है, जो किसी भी संप्रभु राज्य या अधीन क्षेत्र में चौथी न्यूनतम जनसंख्या है टोकेलाऊ की अर्थव्यवस्था दुनिया की सबसे छोटी अर्थव्यवस्था है यहाँ की जीवन प्रत्याशा 69 साल है यह दुनिया का पहला 100 % सौर ऊर्जा संचालित क्षेत्र है

यह एक स्वतंत्र और लोकतांत्रिक राष्ट्र है, जहाँ हर तीन साल में चुनाव होता है केलाऊ की अर्थव्यवस्था न्यूजीलैंड के वित्तीय सहायता के साथ-साथ अपने मछली पकड़ने के लाइसेंस की बिक्री पर निर्भर करती है

7. मलावी

यह देश दुनिया के सबसे गरीब देशों के लिस्ट में 7 वें स्थान पर है यह दक्षिणपूर्व अफ्रीका में स्थित एक लैंडलॉक देश है देश का कुल क्षेत्रफल 118,000 वर्ग किमी है, जहां 13,900,000 से ज्यादा लोग निवास करते हैं

यह देश दुनिया के सबसे निर्धन और सबसे सघन बसे देशों के लिए जाना जाता है यहाँ की अर्थव्यवस्था ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोगो के द्वारा की जाने वाली खेती पर निर्भर है यहाँ की सरकार देश का विकास करने के लिए बहुत हद तक बाहरी मदद पर निर्भर है

इस देश में चीनी तथा गेहूं को छोड़कर अन्य सभी फसलों का उत्पादन किया जाता है यहाँ सबसे ज्यादा तम्बाकू का उत्पादन होता है यहाँ की प्रमुख भाषा अंग्रेजी है

8. नाइजर

यह देश दुनिया के सबसे गरीब देश के लिस्ट में 8 वे स्थान पर है यह अफ्रीका का एक देश है और इस देश का नाम नाइजर नदी के नाम पर पड़ा है नाइजर देश की सीमा सात देशों से मिलती है, इसमें माली, अल्जीरिया, लीबिया, चाड, नाईजीरिया, बेनिन और बुर्किना फासो शामिल है।

नाइजर देश का क्षेत्रफल लगभग 1,270,000 वर्ग किमी है जिससे यह पश्चिमी अफ्रीका का सबसे बड़ा देश माना जाता है इस देश का लगभग 80 %  क्षेत्र सहारा मरुस्थल में स्थित है 

इस देश की आबादी लगभग 22 मिलियन है नाइजर एक विकासशील देश है, जो संयुक्त राष्ट्र के मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) में लगातार निचले पायदान पर है देश के कई गैर-रेगिस्तानी हिस्से समय-समय पर सूखे और मरुस्थलीकरण से खतरे में हैं

इस देश को अपनी भूमि से घिरी स्थिति, रेगिस्तानी इलाके, अक्षम कृषि, जन्म नियंत्रण के बिना उच्च प्रजनन दर और परिणामस्वरूप अधिक जनसंख्या,   खराब शैक्षिक स्तर और इसके लोगों की गरीबी, बुनियादी ढांचे की कमी, खराब स्वास्थ्य देखभाल और पर्यावरण के कारण विकास के लिए गंभीर चुनौतियों का सामना करना पड़ता है

9. मोज़ाम्बीक

यह देश दुनिया के सबसे गरीब देश के लिस्ट में 9 वें स्थान पर है यह दक्षिणी पूर्वी अफ्रीका में स्थित एक देश है संप्रभु राज्य कोमोरोस, मैयट और मेडागास्कर से मोज़ाम्बिक चैनल द्वारा पूर्व में अलग किया गया है मोज़ाम्बिक की राजधानी मापुटो है जोकि इस देश का सबसे बड़ा शहर माना जाता है 

इस देश को 1975 में स्वतंत्रता मिली थी और इसके बाद यह एक जनवादी राष्ट्र बन गया स्वतंत्रता मिलने के केवल दो वर्षों के बाद यह देश 1977 से 1992 तक चलने वाले एक गहन और दीर्घ गृहयुद्ध में उतर गया

 यह देश समृद्ध और प्राकृतिक संसाधनों से संपन्न है इस देश की अर्थव्यवस्था काफी हद तक कृषि पर निर्भर है 2001 के बाद से, मोज़ाम्बिक की वार्षिक जीडीपी उत्पाद की वृद्धि दुनिया के उच्चतम में से एक रही है। हालांकि, देश अभी भी दुनिया के सबसे गरीब और सबसे अविकसित देशों में से एक है

मोजाम्बिक देश की आधिकारिक भाषा पुर्तगाली है जो लगभग पूरे देश में आधी से ज्यादा बोली जाती है इस देश की आबादी लगभग 29 मिलियन है मोज़ाम्बिक देश में सबसे बड़ा धर्म ईसाई धर्म है आईएमएफ ने मोजाम्बिक को एक भारी कर्जदार गरीब देश के रूप में वर्गीकृत किया है

10. इरित्रिया

यह देश दुनिया के सबसे गरीब देशो के लिस्ट में 10 वें स्थान पर है जोकि पूर्वोत्तर अफ्रीका में स्थित एक देश है  इसके पश्चिम में सूडान, दक्षिण में इथियोपिया और दक्षिणपूर्व में जिबूती स्थित है। देश के पूर्व और उत्तर पूर्व भाग में सऊदी अरब और यमन के सीध में लाल सागर की विशाल तटरेखा है

इस देश का क्षेत्रफल 1,18,000 वर्ग किमी में है इस देश की आबादी लगभग 5 लाख है और इसकी राजधानी असमारा है इस देश में कई भाषाओ को मान्यता प्राप्त है लेकिन इसमें से सबसे ज्यादा बोली जाने वाली  भाषा टिग्रीन्या है 

इरिट्रिया एक एकात्मक एक-पक्षीय राष्ट्रपति गणतंत्र है जिसमें राष्ट्रीय विधायी और राष्ट्रपति चुनाव कभी नहीं हुए हैं ह्यूमन राइट्स वॉच के अनुसार, इरिट्रिया सरकार का मानवाधिकार रिकॉर्ड दुनिया में सबसे खराब है यह डाटा वैसे तो समय समय पर बदलता रहता है ।

इस लेख में आपने सीखा Duniya ka sabse gareeb desh kaun sa hai हमें उम्मीद है ये जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *