सीडी क्या है, CD full form in Hindi 

वैसे तो इस time CD का इस्तेमाल बहुत कम हो है, कहीं भी किसी भी कार्य के लिए CD की जरुरत नहीं पड़ती है लेकिन एक समय था जब CD का बहुत अधिक इस्तेमाल होता था लेकिन यहाँ तक की अब नयी पीढ़ी के बच्चों को CD के बारे में बिलकुल भी idea नहीं होता है।

CD kya hai in Hindi

CD का full form compact disc होता है CD एक ढाला हुवा plastic disc होता है जिसमें एक reflective metallic layer होती है इसमें विभिन्न प्रकार के data store किये जाते हैं और उस data को normally देखा या read नहीं किया जा सकता है, उस CD में stored data को access करनें के लिए CD drive, CD player की जरुरत पड़ती जिसमें insert करके CD के data को access किया जा सकता है।

CD को read करने का काम मुख्यतः laser beam करता है जोकि CD drive, player में पहले से installed होता है जिसे हम lens के name से भी जानते हैं।

CD का अविष्कार किसने किया

कहा गया है ना की आवश्यकता आविष्कार की जननी है ठीक कुछ ऐसा ही CD के अविष्कार में हुवा था, CD का अविष्कार James Russel नें 1960 में किया था जोकि एक physicist थे और James Russel का जन्म 1931 में Bremerton, Washington में हुवा था।

James Russel ने 1953 में अपनीं grduation degree हासिल की जिसके बाद वो एक electric lab में काम करने लगे, James music के काफी शौक़ीन थे और उनके इस शौक ने ही CD का अविष्कार किया।

उस time music के लिए vinyl (Polyvinyl) record का इस्तेमाल होता था, James Russel भी vinyl का इस्तेमाल music सुनने के लिए करते थे लेकिन वो अपने vinyl की sound quality से बहुत निराश थे और इस निराशा से CD का अविष्कार हुवा।

CD का अविष्कार James Russel नें 1960 के दशक में किया था लेकिन उसके बाद  भी CD लोगों के लिए एक अनजान चीज थी, क्यूंकि उस time CD की manufacturing होती थी लेकिन 1982 में philips और sony नें CD पर investment किया क्यूंकि उस time के हिसाब से CD data store करनें का सबसे best option था।

और दुनिया का सबसे पहला CD player launch किया जिसका नाम था Sony CDP-101, और यहीं से शुरुवात हुवा CD का व्यपारिक रूप से इस्तेमाल।

भले ही इस time CD एक outdated product हो गया है लेकिन उस time CD एक बहुत मूलयवान चीज हुवा करती थी क्यूंकि उस time CD के अलावा data संग्रहण का कोई और विकल्प नहीं था।

दुनिया का पहला CD player

दुनिया का पहला CD player Sony CDP-101 था जिसकी cost 1000 USD थी जोकि एक काफी बड़ी रकम है और वो भी सिर्फ एक CD player के लिए तो ये रकम बहुत बड़ी थी, लेकिन समय के साथ साथ लगातार CD player की कीमतों में गिरावट आती गयी।

दुनिया की पहली CD

52nd Street दुनिया की पहली CD थी जिसकी कीमत उस time लगभग 30 USD थी और ठीक CD player की तरह इसकी कीमतों में भी गिरावट हुयी, क्यूंकि ये कोई ऐसे product तो थे नहीं जिसकी कीमत बहुत अधिक हो लेकिन उस time CD एक अनोखा product था इसलिए कुछ समय तक इसकी कीमत काफी ज्यादा रही और समय के साथ साथ इसकी कीमत कम हो गयी

CD player

CD कोई ऐसा उपकरण नहीं है जोकि हमें output दे सके, CD ये मात्र एक ऐसी disc है जिसमें हम data store कर सकते हैं लेकिन यदि उस data को हमें access करना हो तो कोई ऐसा device चाहिए जोकि CD में stored data को read कर सके, हम चाहें तो CD player को CD reader भी कह सकते हैं।

विभिन्न प्रकार की CDs के लिए विभिन्न प्रकार के players मौजूद हैं।

CD की capacity

वैसे तो CD की storage क्षमता 1 GB से भी कम होती है यानीं की सिर्फ 700 MB लेकिन जब CD का अविष्कार हुवा था तो उस time CD data संग्रहण का एक best option था और बाकी अन्य संसाधन से इसकी क्षमता ज्यादा थी।

हालाँकि 1980 में pc cards (Memory cards) invent हो चुके थे लेकिन उस time किसी के पास phone नहीं होता था tv भी नहीं होता था तो भला memory card का इस्तेमाल कौन करता है इसलिए इस time data संग्रहण के लिए और विभिन्न प्रकार के media files के संग्रहण के लिए CD का सबसे  ज्यादा इस्तेमाल हुवा।

क्यूंकि CD player हर कोई खरीद सकता था और लगभग हर कोई musics सुनना पसंद करता है और CD में audio, video, software programs भी store करना possible था तो हर एक industry में CD का बहुत अधिक इस्तेमाल होने लगा, बस CD के data को read करनें के लिए CD player की जरुरत होती थी।

हालाँकि tv का आविष्कार CD से बहुत पहले हो चुका था लेकिन tv programs के संग्रहण का कोई best device नहीं था जिसको पूरा किया CD और CD player नें, CD और pc card (Memory card) का अविष्कार लगभग एक ही दशक में हुवा था और 1800 – 1882, और वो दशक था electronic industry में एक क्रांति का।

भले ही दोनों का अविष्कार एक ही दशक में हुवा था लेकिन शुरुवाती दशकों से कुछ दशकों तक CD का बहुत इस्तेमाल हुवा,  क्यूंकि उस time छोटे और बड़े सभी तरह के projects के लिए CD का इस्तेमाल होता था लेकिन pc card (Memory card) का इस्तेमाल सिर्फ बड़े projects के लिए होते थे।

और memory card नें धीरे धीरे CD को एक outdated product बना दिया आप खुद देख सकते हैं आज Memory card का ही इस्तेमाल सभी जगहों पर होता है इस time data सग्रहण के दो primary साधन हैं dard drive (computer में use किया जानें वाला equipment), Memory card (एक external storage, phone storage), और CD का  बिलकुल पतन हो चुका है, हालाँकि अभी भी कुछ programs के लिए CD का इस्तेमाल होता है लेकिन धीरे धीरे इसका इस्तेमाल कम होता ही जा रहा है।

CD vs dvd

हालाँकि इस time CD और dvd दोनों ही पतन के कगार पर हैं लेकिन dvd के अविष्कार के बाद CD पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ा था क्यूंकि dvd, CD के मुकाबले बहुत अधिक data का संग्रहण कर सकता है और इसकी speed भी CD से अधिक होती है।

CD और dvd में फर्क सिर्फ इतना है कि dvd, CD के मुकाबले अधिक सक्षम है जहाँ CD की उच्चतम storage capacity 700 MB होती है वहीँ वहीँ dvd की उच्चतम storage capacity 17.08 GB होती है इसी तरह dvd की और भी बहुत सी खासियत है

हालाँकि dvd के अविष्कार के बाद भी CD का इस्तेमाल होता था लेकिन dvd का भी बहुत इस्तेमाल होता था mostly अधिक data संग्रहण के लिए dvd का इस्तेमाल होता था और short data के लिए भी CD या dvd का इस्तेमाल file की size के अनुसार use किया जाता था क्यूंकि dvd की capacity 4.7 GB से 17.08 GB तक होती है।

cd/dvd का इस्तेमाल कम होने की वजह

इस time किसी को CD की जरुरत नहीं है फिर चाहे कोई भी काम हो चाहे कोई tv program हो computer program (Software) इत्यादि कुछ भी हो क्यूंकि इस time सभी चीजें लोगों को अपने smart phone पर ही देखने और इस्तेमाल करनें को मिल जाती हैं, CD के पतन के करीब होने के दो मुख्य वजह हैं, Satellite TV, Mobile, Computer (Internet), क्यूंकि इनके जरिये हमें सभी प्रकार का data (Movie, Songs, Games, इत्यादि) free में मिल जाता है और वो भी बहुत आसानीं से।

सीडी कितने प्रकार की होती है

जाहिर सी बात है की CD के अविष्कार के समय ही इसमें सभी प्रकार के data को store नहीं किया जा सकता था चूंकि ये तो तय था की CD में सभी प्रकार के data को store किया जा सकता है लेकिन CD का अविष्कार मुख्यतः बेहतर quality के musics को store करनें के लिए किया गया था जोकि James Russel का idea था।

और शुरुवाती दशकों में सबसे पहले Music CD ही बनायीं गयी और उसका player भी जिस बारे में हम ऊपर पूरी जानकारी दे चुके हैं, और बढ़ते समय के साथ साथ CD और CD reader/drive में improvement के साथ साथ सभी प्रकार के data को store करना possible हो गया।

और CD की विभिन्न प्रकार के data संग्रहण की क्षमता के आधार पर CD के अलग अलग name दिए गए, यानीं की CD कई प्रकार की हो गयी जोकि निम्नवत है।

Audio CD (CD-DA)

ये एक primary CD थी audio CD से ही CD equipment का अविष्कार हुवा, ये एक ऐसी CD होती जिसमें audio को store किया जाता था और बेचा जाता था इस CD में audio के आलावा और कोई भी data store नहीं किया जा सकता था।

शुरुवात में बहुत ही simple audio CD ready हुयी थी जिसकी sound quality भी normal थी ये CD सिर्फ audio store कर सकती थी और player पर play किया जा सकता था।

लेकिन कुछ improvement के बाद ये song name, artist इत्यादि data का संग्रहण करने में सक्षम हो गया, जिसे CD-T के नाम से जाना जाता है यानीं की compact disc text

CD में और CD player में लगातार हो रहे improvement की वजह से CD में audio के साथ साथ graphic (CD-G) भी store करना possbile हो गया, चूंकि जब तक CD text version में available थी तब तक song की जानकारी (song name, album name इत्यादि) को सिर्फ CD player में ही देखा जा सकता था लेकिन graphic add करनें के बाद ये CD tv, monitor पर प्रदर्शन कर सकती थी।

लेकिन उस graphic को normal audio player द्वारा प्रदर्शित नहीं किया जा सकता था बल्कि उसके लिए graphic based CD player की जरुरत पड़ती थी जो audio के साथ साथ उस graphic को भी tv, monitor पर प्रदर्शित कर सके।

और यहीं नीव पड़ चुकी थी VCD (Video Compact DIsc) की, क्यूंकि CD के जरिये tv पर graphic प्रदर्शित करना possible हो गया था, लेकिन CD-G के बाद video CD नहीं develop हुयी बल्कि CD-G के बाद CD-EG type की CD तैयार हुयी यानीं की Compact Disc Extended Graphic

CD-EG के develop होनें के बाद texts, Graphics को best quality में tv पर प्रदर्शित किया जानें लगा।

Video CD

1993 में video CD develop की गयी जोकि audio के साथ साथ video भी store कर सकता था ये CD बहुत ही कम समय में बहुत अधिक लोकप्रिय हो गयी, और video CD सबसे ज्यादा बिकने वाली CD बन गयी।

Super Audio CD

बेहतर sound quality के लिए super audio CD develop की गयी, लेकिन फिर भी ये सिर्फ एक audio CD ही थी।

Super Video CD

super video cd, CD का एक नया रूप था क्यूंकि इससे graphic quality बहुत better हो गयी, क्यूंकि first video version CD में quality बहुत अच्छी नहीं थी और quality को बेहतर बनाया गया तो उसे एक नया name दिया गया SVCD.

Photo CD

Photo CD kodak द्वारा design की हुयी CD थी जिसका इस्तेमाल photos को store करनें के लिए होता था इसमें लगभग 100 high quality photos को store किया जा सकता है और विभिन्न purposes के लिए use किया जा सकता है।

CD rom

CD rom के बारे में हो सकता है आपको बहुत अधिक doubt हो क्यूंकि इसके साथ rom लगा हुवा है, और mobile/laptops में भी rom होता है तो  जाहिर सी बात है की doubt तो होगा ही।

ये CD भी normal disc जैसी होती हैं लेकिन ये सिर्फ readable होती हैं इनमें कोई भी परिवर्तन possible नहीं होता है इनमें stored data को player/CD driver द्वारा read किया जा सकता है लेकिन आप CD rom में stored data को ना ही delete कर सकते हैं और ना ही इसमें कोई और data डाल सकते हैं।

CD rom का full from – Compact Disc Read Only Memory

Recordable CD (cd-R)

वैसे तो company द्वारा CD बनाकर provide की जाती है लेकिन recordable CD भी develop की गयी जिससे की कोई भी व्यक्ति बहुत आसानीं से स्वयं recording कर सके लेकिन इसके लिए एक recorder की जरुरत पड़ती थी।

यानीं की यदि आप CD में कोई data store करना चाहते हैं तो recorder के जरिये record करके इस CD में store कर सकते हैं और player पर play कर सकते हैं।

Rewritable CD (CD-RW)

ये अन्य सभी cds से अलग CD है क्यूंकि बाकी सभी में यदि आप कोई data store करते हैं या company करती है या फिर कोई भी करता है तो इससे कोई problem नहीं होती है लेकिन आप उसमें उस stored data के स्थान पर कोई दूसरा data store नहीं कर सकते थे।

लेकिन ReWritable CD उन सबसे बहुत अलग है इस CD में चाहे कोई भी data store करके रखा गया हो लेकिन आप चाहें तो इसमें उस data के स्थान पर कोई अन्य data भी store कर सकते हैं।

कुछ अन्य CD के प्रकार

  • Copy protection
  • Enhanced Music
  • CD-i
  • CD-i Ready
  • CD-MIDI

कंपैक्ट डिस्क में कितने मिनट का म्यूजिक आ सकता है

इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप किस क्वालिटी के म्यूजिक स्टोर करना चाहते हैं यदि नॉर्मल क्वालिटी के म्यूजिक की बात की जाए तो आप लगभग 80 से 100 म्यूजिक स्टोर कर सकते हैं लेकिन यदि आप अधिक हाई क्वालिटी की म्यूजिक स्टोर करना चाहते हैं तो इससे कम म्यूजिक स्टोर होंगे

कंपैक्ट डिस्क का उपयोग किस यंत्र में किया जाता है

कंपैक्ट डिस्क को आप सीडी प्लेयर, कंप्यूटर या लैपटॉप पर इस्तेमाल कर सकते हैं

इस लेख में आपने सीखा CD kya hai और CD full form in Hindi हमें उम्मीद है ये जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *