वेबसाइट क्या है, Website meaning in Hindi

जब भी इंटरनेट की बात होती है तो उसमें सबसे पहले नाम वेबसाइट आता है, क्योंकि इंटरनेट मुख्य रूप से वेबसाइट के आधार पर ही चल रही है फिर चाहे हमें इंटरनेट के जरिए कोई भी जानकारी हासिल करनी हो, या कोई फार्म अप्लाई करना हो या कोई नोटिफिकेशन डाउनलोड करना हो, सभी के लिए हमें वेबसाइट की जरूरत पड़ती है, और यहां तक कि एप्लीकेशन या सॉफ्टवेयर भी वेबसाइट का ही इस्तेमाल करते हैं। Website kya hai।

Website kya hai

वेबसाइट एक वेब एप्लीकेशन है जोकि किसी सर्वर पर बनाई जाती है और वेबसाइट बनाने के लिए हमें दो चीजों की जरूरत पड़ती है, जोकी है होस्ट और दूसरा है डोमेन नाम, जिसमें से पोस्ट हम स्टोरेज को कहते हैं, आप इसे सरल भाषा में मेमोरी कार्ड नहीं समझ सकते हैं और डोमेन नाम उस वेबसाइट तक जाने का रास्ता होता है, और जिस कंप्यूटर को ऑप्टिमाइज करके उसपर कोई वेबसाइट इंस्टॉल की जाती है तो उसे सर्वर कहा जाता है, और वेबसाइट के सर्वर 24 घंटे ऑन रहते हैं।

Website kitne prakar ki Hoti hai

हालांकि हम वेबसाइट के कार्य करने और उसकी सर्विसेज के अनुसार उसको एक स्पेसिफिक कैटेगरी में रख सकते हैं, लेकिन वेबसाइट का कोई प्रकार नहीं होता है क्योंकि सभी वेबसाइट को बनाने के तरीके एक ही होते हैं, जोकि है डोमेन नाम का इस्तेमाल करना, डोमेन नाम और कोडिंग, और डेवलपर या कंपनी अपने प्लान के मुताबिक कोडिंग के जरिए कोई भी फीचर प्रोवाइड कर सकती है, जैसे कि उदाहरण के तौर पर आप समझ सकते हैं कि गूगल के फाउंडर ने गूगल को ऐसे कोड किया कि वह दुनिया भर की वेबसाइट को crawl करके अपने डेटाबेस में स्टोर कर सके, और यूजर के सर्च करने पर उसे यूनिक रिजल्ट दिया जा सके ऐसे में इसे एक सर्च इंजन कहा गया, वहीं दूसरी तरफ फेसबुक को इसके फाउंडर मार्क जकरबर्ग ने इसे कोट किया, कि कोई भी व्यक्ति फेसबुक पर अपना अकाउंट बना सके और लोगों से चैटिंग कर सके, और लगातार ढेरों फीचर्स को इसमें शामिल किया गया और इसे एक सोशल मीडिया का नाम दिया गया, क्योंकि यह लोगों को कनेक्ट करने का कार्य करता है।

Social media Website kya hai

सोशल मीडिया वेबसाइट्स को कहा जाता है जो कि लोगों को अपना अकाउंट बनाने और दुनिया भर से अन्य लोगों के साथ जोड़ने की सुविधा प्रदान करते हैं, और उन से चैटिंग करने इत्यादि का भी विकल्प प्रोवाइड करते हैं, इसके शीर्ष पर फेसबुक, टि्वटर जैसी कंपनियां राज कर रही हैं।

Website ke fayde kya hain

वेबसाइट के क्या फायदे हैं इसके बारे में शायद आपको बताने की जरूरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि आप खुद ही सोचिए कि क्या हो जब 1 दिन के लिए गूगल, यूट्यूब और अन्य वेबसाइट बंद हो जाए जिनका आप इस्तेमाल करते हैं
  • आप दुनिया भर से लोगों से कनेक्टेड हो सकते हैं
  • ऑनलाइन कार्य करके पैसे कमा सकते हैं
  • ऑनलाइन पेमेंट कर सकते हैं
  • ऑनलाइन फॉर्म भर सकते हैं
  • ऑनलाइन कंप्लेंट कर सकते हैं
  • दूर देश में अपने रिलेटिव से फ्री में बात कर सकते हैं
  • विभिन्न प्रकार की जानकारियां फ्री में हासिल कर सकते हैं
  • कोई भी लेटेस्ट अपडेट हो तो तुरंत उसकी जानकारी हासिल कर सकते हैं
  • न्यूज़ पढ़ने के लिए न्यूज़ पेपर की जरूरत नहीं है ऑनलाइन वेबसाइट का इस्तेमाल करके न्यूज़ पढ़ सकते हैं
नोट : ज्यादातर एप्लीकेशन भी सर्विसेस प्रोवाइड करने के लिए वेबसाइट का इस्तेमाल करते हैं।

Website kaun bana sakta hai

कोई भी व्यक्ति अपनी वेबसाइट बना सकता है, लेकिन इसके लिए उसे डोमेन नाम और होस्टिंग खरीदने की जरूरत पड़ेगी।

Website kaise banaye

इस समय वेबसाइट बनाना काफी ज्यादा आसान पास हो चुका है क्योंकि ऐसे बहुत सारे कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम मौजूद है, जोकी वेबसाइट बनाने की फैसिलिटी प्रोवाइड करते हैं और यदि आप उनका इस्तेमाल करते हैं, और बहुत ही आसानी से सिर्फ छोटे इन्वेस्टमेंट के साथ ही वेबसाइट बना सकते हैं। लेकिन यदि आप कोई डायनेमिक वेबसाइट बनाना चाहते हैं, और आप चाहते हैं कि उसके फीचर आपके रिकॉर्डिंग हो आप उसे खुद से डेवलप करना चाहते हैं और डिजाइन करना चाहते हैं, तो इसमें आपको बहुत समय लग सकता है और बहुत ही टेक्निकल जानकारी की भी जरूरत पड़ेगी, क्योंकि ऐसे में आप खुद ही अपनी वेबसाइट को कोड करेंगे। लेकिन आपको किस तरह की वेबसाइट बनानी चाहिए यह आपके टारगेट पर निर्भर करता है, कि आप क्या करना चाहते हैं आप कौन से सर्विस प्रोवाइड करना चाहते हैं, क्योंकि यदि आप नॉर्मल कंटेंट लिखने के लिए वेबसाइट बनाना चाहते हैं तो आपको कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम का इस्तेमाल करना चाहिए, और यदि आप कोई सर्विस प्रोवाइड करना चाहते हैं तो आपको खुद से अपनी वेबसाइट कोड करनी पड़ेगी। नोट : ज्यादातर वेबसाइट हार्ड कोडेड होती है, क्योंकि उन्हें विभिन्न प्रकार की अलग-अलग सर्विसेस प्रोवाइड करने की जरूरत रहती है, और इस समय समय पर खुद को अपनी इच्छा अनुसार अपग्रेड कर सकते हैं। जबकि एक आर्टिकल प्रोवाइड करने वाली वेबसाइट किसी कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम पर बनाई गई होती है, क्योंकि ऐसे भी वेबसाइट बहुत ही आसानी से बन जाती है और यदि सिर्फ आर्टिकल लिखना है तो उसके लिए हार्डकोडिंग करने की कोई भी जरूरत नहीं है, जब पहले से ही आपको बेहतरीन विकल्प मिल रहा है, और इसके लिए ज्यादातर वर्डप्रेस का इस्तेमाल किया जाता है जोकि बिल्कुल फ्री है। इस लेख में आपने सीखा Website kya hai हमें उम्मीद है ये जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी।