डीजीपी, पुलिस महानिदेशक

डीजीपी, पुलिस महानिदेशक, DGP शब्द को हम बहुत बार TV पर news paper में, radio पर लोगों के बच्चे में आदि जगहों पर हम बहुत बार सुनते है और हमें ये तो पता होता है की ये एक police अधिकारी होते है लेकिन रैंक नहीं पता होती है।

अगर मै DGP की बात करूँ तो आपको पता होना चाहिए की DGP पद police के पदों में सबसे बड़ा पद होता है और DGP को कैबिनेट मंत्री के समान माना जाता है।

डीजीपी, पुलिस महानिदेशक

DGP का फुल फॉर्म Director general of police होता है, और इसको हिंदी में पुलिस महानिदेशक कहते है, DGP को CP यानि की commissioner of police भी कहा जाता है

DGP की  वर्दी पर अशोक स्तम्भ, तलवार, और एक स्टार होता है।और नीचे IPS लिखा होता है, और DGP पुलिस विभाग में IPS रैंक के सबसे बड़े अधिकारी के रूप में होते है।

एक राज्य में एक से चार पद DGP के होते है अगर आपको इस पद पर जाना है तो आपको IPS पास करना होगा क्योंकि एक IPS अधिकारी ही DGP बन सकता है IPS पास करने के बाद ही आपको DGP में promotion मिलेगा, मै आपको जानकारी के लिए बता दू की DGP पद के लिए कोई direct भर्ती नहीं होती है अगर आपको DGP बनना है तो आपको पहले IPS का एग्जाम निकलना होगा और फिर आप प्रमोशन होता जायेगा और अगर आपमें DGP की  याग्यता रही तो आपका promotion DGP के लिए हो जायेगा।

DGP होने के बाद आप अपने राज्य को अपने हिसाब से चला सकते है, एक DGP कैबिनेट मंत्री के बराबर होता है, DGP पद police विभाग का सबसे लास्ट पद और सबसे बड़ा पद होता है इसके लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ती है।

अगर मैं सैलरी की बात करू तो DGP जोकि सबसे बड़े अधकारी होते है इस वजह से इनकी सैलरी भी police विभाग में सबसे ज्यादा होती है और साथ में और सुविधाएं भी मिलती है, DGP की सैलरी 56000 से लेकर 225000 तक ग्रेड पे प्रतिमाह सैलरी होती है, सैलरी ज्यादा होने के साथ साथ इनकी जिम्मेदारीया भी ज्यादा होती है।

तो मै उम्मीद करूँगा की आपको हमारा article डीजीपी, पुलिस महानिदेशक समझ में आ गया होगा और पसंद आया होगा इसे अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें।

Leave a Comment